वन नेशन वन राशन कार्ड योजना {Main points} [Brief Detail] {How to apply }

ONE NATION ONE RATION CARD

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना # Special feature #मुख्य बिंदु #लाभ

कोरोना सॅंकट के चलते देश को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए 14 मई 2020 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक पैकेज की दूसरी किश्त का ब्योरा देने के साथ One Nation One Ration Card Yojana की घोषणा की.

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना {Main points} [Brief Detail] {How to apply }

अब हमारे देश की करोड़ों की आबादी में ज़्यादातर मज़दूर अपनी स्टेट में काम ना होने की वजह से दूसरी स्टेट्स में जाकर मेहनत मज़दूरी करते हैं.करोना के महाकाल में सरकार द्वारा जो ग़रीब कल्याण योजना का जो पॅकेज है उसका लाभ ये प्रवासी मज़दूर नही ले पा रहे हैं.

ग़रीब कल्याण अन्न योजना के बारे में यहाँ पढ़ें. :PM GAREEB KALYAN ANN YOJANA

वर्तमान में करोना महामारी के चलते बहुत से मज़दूर अपना रोज़गार छोड़ के घर बैठने के लिए

मजबूर हैं. रोज़गार ना होने पर पैसे ना होना स्वाभाविक है. उपर से यदि उनका राशन कार्ड किसी और स्टेट का है तो उन्हें कम क़ीमत पे मिलने वाले राशन का लाभ भी नही मिलेगा.

इन्ही प्रवासी मज़दूरों की समस्या का हल करने के लिए सरकार ने ONE NATION ONE RATION CARD YOJANA  का आरंभ किया है.ताकि वे किसी भी स्टेट में होने पर भी कम कीमत में मिलने वाले राशन की सुविधा प्राप्त कर सकें.जिससे उनकी इन कठिन परिस्थियों में मदद होगी.

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के मुख्य बिंदु:-

  • योजना के अंतर्गत मार्च 2021 तक 100% कवरेज करना है.
  • वन नेशन वन राशन कार्ड के बाद किसी को भी स्थानांतरण होने पर राशन के लिए परेशान नही होना पड़ेगा.
  • आप देश के किसी भी कोने में बैठे हों आप अपना राशन ले सकते हैं.
  • अब राशन कार्ड एक डेबिट कार्ड के फॉर्म में मिलेगा.
  • जिसे आप आसानी से स्वेप कर के अपना राशन ले सकते हैं.
  • इसके लिए सभी पीडीएस दुकानों पर POS मशीन लगाना अनिवार्य कर दिया गया है.
  • ONE NATION ONE RATION CARD मिलने पर आप किसी भी पीडीएस दुकान से अपना राशन बिल्कुल आसानी से ले सकते हैं.

क्या है वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का लाभ ?

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना {Main points} [Brief Detail] {How to apply }

  • अभी तक राशन कार्ड से आप का अपने ही स्टेट में सस्ता राशन प्राप्त कर सकते थे.ग़रीबे रेखा से नीचे रहने वाले लोगों को सरकार द्वारा कम कीमत पर राशन दिया जाता है.
  • किंतु ऐसे लोग अपनी स्टेट में अछा ओज़गार ना मिल पाने की स्थति में और राज्यों में जा कर मज़दूरी करते हैं.
  • ऐसे में उनका राशन कार्ड तथा उस पर मिलने वाले सस्ते राशन का लाभ ज़ीरो हो जाता है.
  • इसका कारण है की राशन कार्ड केवल उसी जगह मान्य है जहाँ का वह निवासी है.
  • किंतु यहाँ प्रशन यह उठता है की जब नेशन एक है तो राशन कार्ड स्टेट के हिसाब से क्यूँ?
  • इसी का समाधान है ONE NATION ONE RATION CARD YOJANA  जो की एक ही राशन कार्ड को पूरे देश में वैधयता दिलवाएगी.
  • इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी एक ही राशन कार्ड का प्रयोग करके देश के किसी भी हिस्से में उचित मूल्य की दुकान से अपना राशन ले सकेगें.
  • अब किसी भी तरह की कोई परेशानी नही आएगी आप अपने राशन कार्ड से किसी भी उचित मूल्य की दुकान से कम कीमत पर राशन ले सकेंगे .अब किसी भी राज्य से होने पर आपको राशन मिलेगा.
  • सबसे ज़्यादा लाभ प्रवासी मजदूरों को अधिक होगा |  इन् लोगो को खाद्य सुरक्षा मिलेगी.
  •  राशन कार्ड उपभोक्ता अपने कोटे के अन्न को किसी भी पीडीएस  दुकान से आसानी से खरीद सकेगा.
  • कार्ड उपभोक्ता डिपो डीलर के व्यवहार से  असंतुष्ट होता है तो वह अन्य पीडीएस दुकान से ले सकता है |

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के उद्देश्य

  •  सबसे पहला उद्देश्य इस योजना के लागु होते ही  देश मे जितने भी फर्जी राशन कार्ड है को रोकने में और  भ्रष्टाचार को कम करना है.
  • केंद्र सरकार का उद्देश्य है कि इस योजना के द्वारा  जो लोग गरीब है, बेरोजगार है और रोज़गार की तलाश में एक राज्य से दूसरे राज्य में जा रहे हैं उन्हें खाद्या सुरक्षा प्रदान की जाए.
  • यदि कोई व्यक्ति किसी एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है तो उसे राशन लेने में परेशानी नही हो.
  • एक मुख्य उद्देश्य यह भी है की इसे जल्दी से जल्दी सभी राज्यों में शुरू कर दिया जाए ताकि सभी लोग इसका लाभ ले सकें.
  •  अगस्त 2020 तक राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी के तहत PDS 83% आबादी वाले देश के 23 राज्यों में 67 क़रोड़ जनता को इस योजना से जोड़ा जाएगा. मार्च 2021 तक100% राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा.

किन राज्यों में शुरु हो चुकी है

राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी के द्वारा 1 जून, 2020 तक 20 राज्य जुड़ गए है. जिसमें उत्तर प्रदेश,बिहार,आंध्र प्रदेश, तेलंगाना,गुजरात,महाराष्ट्र,हरियाणा, राजस्थान, केरल ,कर्नाटक, मध्य प्रदेश,गोवा,झारखंड,हिमाचल प्रदेश आदि राज्य शामिल हैं.

वन नेशन वन राशन कार्ड के नये रूप की विशेषताएँ :

अब जब सारे नेशन में एक ही जैसा राशन कार्ड वैधया होगा तो जाहिर से बात है की उसका प्रारूप भी एक जैसा ही होगा.इसी चीज़ को ध्यान में रखते हुए नये  राशन कार्ड को पूरे देश की हर स्टेट में कुछ इस प्रकार के ढंग से बना के ISSUE किया जाएगा.

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना {Main points} [Brief Detail] {How to apply }

10 अंको का होगा वन नेशन वन राशन कार्ड

  1.  यह कार्ड सरकार सभी राज्यों को 10 नम्बर / अंको वाला राशन कार्ड  जारी किया ज़ाएगा. इस नंबर में दो अंक राज्य कोड होंगे और अगले दो अंक राशन कार्ड  नंबर होंगे ओर इसके अलावा राशन कार्ड  नंबर के साथ एक और दो अंकों के सेट को जोड़ा ज़ाएगा.
  2. सरकार ने यह घोषणा भी की है कि नया राशन कार्ड उन्हे ही बनवाना पड़ेगा जिनके पास नहीं है, अर्थात जिनके पास पहले से ही राशन कार्ड मौजूद है उनको उसी राशन कार्ड  पर यह  सुविधा उपलब्ध होगी.

 कुछ ज़रूरी नियम

  1.  राशन कार्ड दो भाषाओं में बनेगा  एक तो स्थानीय भाषा और दूसरी अँग्रेज़ी या हिन्दी .
  2. भारत का कोई भी कानूनी नागरिक इस राशन कार्ड के  लिए आवेदन कर सकता  है.
  3. 18 साल से कम उम्र के बच्चों  को उनके  माता -पिता  के राशन कार्ड मे  जोड़ा ज़ाएगा .
  4.  कार्ड धारको को 5 किलो चावल ओर 3 रुपए के हिसाब से 2 किलो गेंहू  दिया ज़ाएगा .

वन नेशन वन राशन कार्ड के लिए APPLY कैसे करें?

APPLY करने की ज़रूरत ही नही है. जी हाँ आपके पास पहले से राशन कार्ड है ना बस फिर आप आराम से बैठिए.

केंद्र सरकार सभी राज्य सरकारों के साथ मिलकर फ्ले से मौजूद डाटा को इंटरकनेक्ट कर लेगी. आपके राशन कार्ड की डीटेल फोने से ही आधार कार्ड से जोड़ लेगी. फिर इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट  पब्लिक डिस्टीब्यूशन सिस्टम के अंतर्गत आँकड़े उपलब्ध करवा दिए जाएँगे.इसके बाद किसी भी राज्य का नागरिक पूरे राष्ट्र में कहीं भी अपना राशन ले सकता है.

इस प्रक्रिया में आपका राशन कार्ड उसी केटेगरी में रखा जाएगा जिसमें की पहले था.

  • APL CATEGORY:- ग़रीबे रेखा से उपर.
  • BPL CATEGORY:- ग़रीबे रेखा से नीचे.

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में आने वाली चुनौतियां

डिपो डीलर को यह पता लगाना मुश्किल होगा कि उसकी दुकान से कितने लोग अपना राशन लेने वाले है. क्योंकि उनके पास तो पहले से ही निर्धारित होता है कि उनकी दुकान से कितने  लाभार्थी  जुड़े है उसी हिसाब से वहाँ राशन पहुँचता है.

उदाहरणत:  यदि उत्तर प्रदेश का व्यक्ति अपना कोटे का राशन हिमाचल प्रदेश मे लेता है तो वह हिमाचल के कार्ड धारकों के कोटे से खाएगा क्योंकि उसका अपना राशन कार्ड तो उत्तर प्रदेश का होगा .तो उसका हिस्‍सा भी उत्तर प्रदेश में ही जाएगा.

ऐसी स्थिति मे हिमाचल सरकार को भी लगेगा कि वह अपने लोगों का राशन दुसरे राज्यों के लोगों को दे रही है. इससे राज्यों में भी आपस में विवाद बढ सकता है |

आधार से लिंक करने की तिथि  बढी 

कार्डधारक  30 सितम्बर  तक राशन कार्ड को आधार से लिंक कर सकते है. जिन लाभार्थियों  का आधार राशन कार्ड से अभी नही जुड़ा है तो भी वह अपना राशन ले सकते है.

टोल फ्री नंबर:-

यदि आपको नये राशन कार्ड संबंधी कोई भी जानकारे चाहिए. या आपक किसी भी समस्या का सामना कर रहें हैं तो आपको केवल इस नंबर पर कॉल कर के बात करनी है. नंबर है 14445. यह नंबर टोल फ्री है यानी की इस नंबर पर बात करने के पैसे नही लगेंगे. और यहाँ से आपको पूरी सहायता और आपको प्रॉब्लम्स का solution भी दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.